LIVE24X7

अंतिम छोर के व्यक्ति को मिले मीठा पानी ः मेघवाल

स्टेट ब्यूरो रिपोर्ट:- रवी शर्मा

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री ने कोठ्यारी कुंज पंप हाऊस का किया आकस्मिक निरीक्षण, अधिकारियों को दिए निर्देशचूरू, 07 दिसम्बर। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल ने शनिवार को सुजानगढ़ में छापर रोड पर जलदाय विभाग एवं आपणी योजना के कोठ्यारी कुंज स्थित पंप हाऊस का आकस्मिक निरीक्षण किया।उन्होंने इस दौरान पंप हाऊस के बाहर बने फ्लोमीटर वॉल्व चैंबर,  स्विचगियर रूम, 16 लाख लीटर क्षमता के स्वच्छ जलाशय का निरीक्षण किया तथा पेयजल वितरण व्यवस्था, क्लोरीनेशन आदि के बारे में जानकारी प्राप्त की।  अधिशाषी अभियंता रामावतार सैनी ने पेयजल व्यवस्था, विद्युत आपूर्ति, क्लोरीनेशन आदि के बारे में मेघवाल को जानकारी देते हुए बताया कि 16 लाख लीटर क्षमता के स्वच्छ जलाशय से सुजानगढ़ शहर, सालासर, शोभासर, मालकसर व लालगढ क्षेत्र के लिए पेयजल आरक्षित किया जाता है।

अधिशाषी अभियंता रामावतार सैनी ने बताया कि राज्य सरकार की ओर से राजस्थान में घर-घर कनेक्शन के लिए कुल 23 वृहद पेयजल परियोजनाओं का चयन किया गया है, जिसमें  चूरू जिले की रतनगढ़-सुजानगढ़ वृहद पेयजल परियोजना (256 गांव एवं 325 ढाणियां) शामिल है।सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री ने कोठ्यारी कुंज स्थित मुख्य पंप हाऊस में लगे सभी 11 पंप के बारे में विस्तृत चर्चा की और अधिशाषी अभियंता रामावतार को निर्देश दिए कि निर्माण कार्य के बाद बचे मलबे आदि को हटाएं।मेघवाल ने कहा कि क्षेत्र की पेयजल व्यवस्था को दुरुस्त रखें और देखें कि कोई भी गांव-ढाणी समुचित पेयजल आपूर्ति से वंचित नहीं रहे। अंतिम छोर के व्यक्ति को आसानी से गुणवत्तायुक्त मीठा पेयजल उपलब्ध हो, यह हमारा प्रयास रहना चाहिए। स्वीकृति के बावजूद जो कार्य रुके हुए हैं, उन्हें तत्काल शुरू कराएंं। ग्रामीणों की पेयजल आपूर्ति व्यवस्था में किसी भी अधिकारी, कर्मचारी की लापरवाही व अनियमितता को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि मीठे पानी की आपूर्ति के साथ-साथ ग्रामीणों को पेयजल के सदुपयोग और बचत के बारे में भी जागरुक करें ताकि पानी बर्बाद नहीं हो। आपणी योजना की टंकियों का रख-रखाव समुचित ढंग से हो तथा उनकी नियमित तौर पर सफाई सुनिश्चित की जाए। आपणी योजना के पानी का अवैध कनेक्शन कर अंतिम छोर तक जलापूर्ति में व्यवधान पैदा करने वाले लोगों के खिलाफ एफआईआर कराएं, उन पर जुर्माना लगाएं और चोरी के पानी का उपयोग करने वाले प्रतिष्ठानों को सीज करें। इस दौरान सुजानगढ़ प्रधान गणेश ढाका, उप प्रधान दीवान सिंह, विद्याधर बेनिवाल, पूर्व जिला प्रमुख बनारसी मेघवाल, धर्मेंद्र कीलका, सुरजाराम ढाका, राधेश्याम अग्रवाल, भागीरथ मेघवाल, लूणाराम सहित अधिकारीगण मौजूद रहे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat