चुनाव विश्लेषण 2020.

दिग्विजय सिंह मो० न०- 8051874194

मिथिला के प्रवेश द्वार के रुप में लोकप्रिय समस्तीपुर जिला के विधानसभा निर्वाचन में पूरे प्रदेश की निगाहेँ टिकी होती है! समस्तीपुर जिला जननायक तथा बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुर जी का गृह जिला है जहाँ के सभी विधानसभा निर्वाचन सीटों पर बिहार के साथ साथ सारे देश की नजरें इनायत की स्थिति में बनी रहेगी, ऐसी उम्मीद की जा रही है|

322 BLO बाले 133 समस्तीपुर विधानसभा सभा निर्वाचन क्षेत्र का गठन समस्तीपुर नगर प्रखंडों, नगर पंचायत मिला कर की गई है जिसमें अनुमानतया ताजपुर, समस्तीपुर, मोहनपुर प्रखण्ड एबं नगर परिषद क्षेत्र के ग्रामीण तथा शहरी 29 पंचायतों को मिलाकर लगभग 322 बुथों को मिला कर किया गया है|

2019 के लोकसभा उपचुनाव में लोजपा के प्रिंस कुमार लोकसभा चुनाव क्षेत्र के सभी विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों में बढ़त हासिल करते हुए विजय प्राप्त किया था, परन्तु लोकसभा चुनाव तो मोदी जी व्यक्तित्व पर लड़े गए थे जबकि विधानसभा सभा निर्वाचन सुशासन बाबू के नाम पर लड़े जायेंगे|

अभी कोरोना संक्रमण के इस दौर में सभी दल वाले विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में भर्चुअल वीडियो कान्फ्रेन्स के जरिए चुनाव प्रचार में व्यस्त हैं|

ग्रामीण क्षेत्र हो अथवा शहरी|मतदाताओं का कहना है कि जनप्रतिनिधि सिर्फ चुनाव के समय ही रुबरु होतें हैं, बाकी समय में अण्डरग्राउंड हो जाते हैं|इन पांच सालों में जितनी भी आरजू मिन्नत की जाए, मुलाकात होना असम्भव होता है| ऐसे वक्त में विधायक या सांसद दूज के चांद बन जाते हैं|

क्षेत्र में समस्याओं का अम्बार है|जूट मिल तीन साल से, कागज मिल कई सालों से बन्द है, क्षेत्र की जनता द्वारा इसे फिर से खोलने के लिए आन्दोलन चलाये गए|परन्तु परिणाम हुआ- ढाक के तीन पात| समस्या जस की तस बनी रही| सांसद और विधायक कोई नहीं सुनता! हां, चुनाव के समय जनभावना से खेलने अवश्य चले आते हैं|

राजनैतिक समीकरण 2015 के विधानसभा निर्वाचन दो राजनैतिक गठबंधनों राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन तथा महागठबंधन के बीच में लड़ा गया था|उस चुनाव में नीतीश कुमार जी ही महागठबंधन के मुखौटा थे, परन्तु 2020 के विधानसभा निर्वाचन में वही राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के नेतृत्व कर्त्ता होंगे|

2015 में समस्तीपुर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में मुख्य मुकाबला राष्ट्रीय जनता दल के उम्मीदवार अख्तरुल इस्लाम शहीन तथा राजग गठबन्धन के रेणु कुशवाहा के बीच में था|इस निर्वाचन क्षेत्र पर 2000 से ही जदयू तथा राजद का कब्जा रहा है| इस निर्वाचन क्षेत्र में मुस्लिम बहुल इलाके हैं! साथ ही साथ इस क्षेत्र में यादवों की अच्छी खासी संख्या है, जिसका फायदा चुनाव में राजद को मिलता रहा है|ऐसे तो हर चुनाव में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन चूनाव जीतने के लिए पुरा दमखम लगाती रहती है|

विधानसभा निर्वाचन 2020 की घोषणा होना बाकी है|फिर से दिलचस्प टक्कर महागठबंधन तथा राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के उम्मीदवारों के बीच देखने को मिलेगी| चुनावी घोषणा के बाद समीक्षोपरान्त प्रतिद्वंद्विता का प्रतिवेदन भेजा जायेगा|तब तक के लिए बहुत बहुत आभार!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat