जीमण में नजर आए पत्तल-दौने व स्टील के गिलास

जिला कलक्टर संदेश नायक की सिंगल यूज प्लास्टिक के खिलाफ मुहिम से मिली प्रेरणा, कड़वासर में हुए विवाह में नहीं नजर आए डिस्पोजेबल्स, अतिथियों व मेहमानों ने की सराहनाचूरू, 29 जनवरी। जिला कलक्टर संदेश नायक की पहल पर सिंगल यूज प्लास्टिक के खिलाफ जिले में चलाई जा रही मुहिम का असर कड़वासर गांव में एक समारोह में खूब नजर आया।

गांव के युवक अजय नवहाल की शादी से पूर्व हुए बुधवार को हुए प्रीतिभोज समारोह में कहीं भी डिस्पोजेबल्स तथा सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग नजर नहीं आया।बुधवार को हुए कार्यक्रम में सभी मेहमानों को पत्तल-दौनों में खाना परोसा गया तथा पानी पीने के लिए डिस्पोजेबल्स की बजाय स्टील के गिलासों की व्यवस्था की गई थी। पूरे कार्यक्रम में कहीं भी सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग देखने को नहीं मिला। इस तरह की व्यवस्था से जहां सभी मेहमान और ग्रामीण हैरत में नजर आए, वहीं इसके पीछे के संदेश को जानकर सभी ने इसकी सराहना की।दूल्हे अजय के पिता परमेश्वर लाल ने बताया कि किसी जमाने में एकदम इसी तरह से हम व्यवस्था करते थे और पत्तल दौनों व स्टील के गिलासों का ही उपयोग होता था। बाद में सिंगल यूज प्लास्टिक की सुविधाओं को देखते हुए यह ट्रेंड बदल गया और डिस्पोजेबल्स प्रचलन में आ गए लेकिन इन डिस्पोजेबल्स का समुचित निस्तारण नहीं हो पाता और यह हमारे स्वास्थ्य के साथ-साथ प्रकृति के लिए भी नुकसानदेह हैं। इसी बीच जिला कलक्टर संदेश नायक द्वारा चलाई जा रही मुहिम के बारे में सुना तो निश्चय किया कि विवाह समारोह में किसी प्रकार की सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग नहीं करेंगे। इसी को देखते हुए यह व्यवस्थाएं की गई हैं।अजय ने बताया, जिला कलक्टर के अभियान से उन्हें इसकी प्रेरणा मिली और पहले दिन से ही सभी ने तय किया कि विवाह के किसी भी कार्यक्रम में सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग नहीं किया जाएगा। अजय ने कहा कि वे अन्य युवाओं से भी यह अपेक्षा करते हैं कि वे सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग करना बंद करें। वे भविष्य में भी यह कोशिश करेंगे कि सिंगल यूज प्लास्टिक के उपयोग से यथासंभव बचें।सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के सहायक निदेशक कुमार अजय ने इस अवसर पर उनके प्रीतिभोज समारोह में पहुंचकर उन्हें शुभकामनाएं दीं और इस पहल के लिए जिला कलक्टर संदेश नायक की ओर से साधुवाद दिया। कुमार अजय ने कहा कि गांव के इस परिवार की दूरगामी सोच से दूसरे लोगों को भी प्रेरणा मिलेगी और जल, जंगल व जमीन के संरक्षण की दिशा में यह पहल महत्त्वपूर्ण साबित होगी। इस दौरान मौजूद ग्रामीणों ने भी नवहाल परिवार की इस पहल का स्वागत किया। सरकारी दफ्तरों में नहीं हो रहा उपयोगउल्लेखनीय है कि चूरू कलक्टर संदेश नायक ने पिछले दिनों एक आदेश निकालकर कलक्ट्रेट परिसर व अन्य सरकारी दफ्तरों में सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग बंद करने के निर्देश दिए थे। उसके बाद सभी उपखंड अधिकारियों तथा जिला स्तरीय अधिकारियों ने भी अपने स्तर पर ऎसे ही आदेश निकालकर सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग अपने अधीनस्थ कार्यालयों में बंद कर दिया। जिले के कॉलेज व स्कूलों ने भी अपने परिसर में सिंगल यूज प्लास्टिक का उपयोग बंद कर दिया है। जिला कलक्टर की इस पहल को पूरे जिले मेें भरपूर सराहना मिल रही है तथा आमजन भी इससे प्रेरित हो रहे हैं। चाय-कॉपी, पानी के लिए इस्तेमाल होने वाले डिस्पोजेबल्स व बोतलें आदि अब दफ्तरों से गायब हो गई हैं। पिछले दिनों हुए स्वाधीनता दिवस समारोह व एट होम में भी सिंगल यूज प्लास्टिक नहीं देखने को मिला, जिसकी सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री मास्टर भंवर लाल मेघवाल व अन्य अतिथियों ने खूब सराहना की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat