LIVE24X7

नेहरू जी की जीवनी आज के बच्चों के लिए प्रेरणा स्त्रोत है

राजस्थान-सरकार

सूचना एवं जन सम्पर्क कार्यालय

सीकर रवि शर्मा,नेछवा स्टेट ब्यूरो राजस्थान

जिला कलेक्टर

शिवसिंहपुरा में हुआ जिला स्तरीय बाल मेलें का आयोजन

सीकर 14 नवम्बर। भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के जन्म दिवस (14 नवम्बर) पर जिले में विद्यार्थियों द्वारा रैली, सह शैक्षिक प्रतियोगिताओं, गायन, चित्रकला, निबन्ध प्रतियोगिता, नेहरू जी के जीवन पर फोटों प्रदर्शनी सहित विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। राजस्थान राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग के निर्देशानुसार जिला बाल संरक्षण अधिकारिता विभाग द्वारा 14 से 20 नवम्बर तक आयोजित बाल सप्ताह के जिला स्तरीय बाल मेलें के कार्यक्रम का शुभारम्भ राजकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय शिवसिंहपुरा में जिला कलेक्टर यज्ञ मित्र सिंहदेव ने फीता काटकर किया। इस अवसर पर जिला कलेक्टर ने कहा कि नेहरू जी की जीवनी आज के बच्चों के लिए प्रेरणा स्त्रोत है। उन्होंने कहा कि भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के जन्म दिवस पर 14 नवम्बर को पूरे देश में बाल दिवस मनाया जाता है। देश के प्रधानमंत्री होने के नाते उन्होंने बहुत से ऎसे काम किए जिनका परिणाम आज हमें देखने को मिल रहा है। जिला कलेक्टर ने कहा कि पंडित जवाहर लाल नेहरू पंचवर्षीय योजनाओं, औद्योगिक क्रांति, दुग्ध क्रांति सहित गुट निरपेक्ष आन्दोलन के सूत्रधार भी वही थे। बच्चों में नेहरूजी “चाचा नेहरू“ के नाम से लोकप्रिय थे। उन्होंने डिस्कवरी ऑफ इण्डिया किताब लिखी जो आज भी प्रेरणास्पद है व नेहरू जी ने आमजन की धारणा को ध्यान में रखकर जीवन भर देश के विकास के लिए कार्य किया। जिला कलेक्टर ने छात्र-छात्राओं का आव्हान किया कि वे पढ़-लिखकर दूर का लक्ष्य रखते हुए आगेे चलकर अधिकारी बनें। उन्होंने छात्र-छात्राओं से अध्ययन के साथ-साथ खेल में भाग लेने को कहा। उन्होंने शिक्षकों से कहा कि बच्चों को विभिन्न खेलों की गतिविधियों से जोड़कर उनका सर्वांगीण विकास करने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएं। उन्होंने बताया कि जिले में 19 से 20 नवम्बर तक बाल सप्ताह का आयोजन किया जायेगा। कार्यक्रम में जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जगदीश प्रसाद बुनकर ने कहा कि बच्चों को अपने अधिकारों के प्रति जागरूक किया जाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि सीखने की कोई उम्र नहीं होती है तथा बच्चे बुद्धिमान होते है। सीईओ ने जानकारी दी की बाल उत्पीड़न के विरूद्ध संबंधित थानों में रिपोर्ट दर्ज करवाकर कार्यवाही करवाई जा सकती है। कार्यक्रम में मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी सुरेन्द्र सिंह गौड़, सहायक निदेशक बाल संरक्षण प्रियंका पारीक ने भी सम्बोधित किया। समारोह में सी.ओ सीटी वंदिता राणा, आर.सी.एच.ओ. डॉ. निर्मल सिंह, बाल कल्याण समिति अध्यक्ष रतन लाल शर्मा, मनसुख रणवां स्मृति संस्थान की दुर्गा रणवां, नूर मौहम्मद पठान, एसीईओ बनवारी लाल भूकर, डीपीसी भंवर लाल गुर्जर, बीडीओ पिपराली विजय प्रकाश, फतेहपुर सुनील ढ़ाका, एडीईओ अरूण माथुर, प्रधानाचार्या इंदुकला बराल, विद्यालय स्टॉफ, छात्र-छात्राएं, आमजन बड़ी संख्या में उपस्थित रहेंं। जिला कलेक्टर ने किया बाल मेले में लगाई गई स्टालों का अवलोकन ः जिला कलेक्टर यज्ञ मित्र सिंहदेव ने बाल दिवस पर विद्यालय परिसर में छात्र-छात्राओं द्वारा लगाई गई मॉडल प्रदर्शनी एवं विभिन्न खान-पान की स्टालों का अवलोकन कर स्वयं ने भी स्टाल पर रूमाल की खरीददारी की। उन्होंने बच्चों को नसीहत दी की वे प्लास्टिक के बजाय कपड़े के थैले का प्रयोग करें, इससे पर्यावरण भी सुरक्षित एवं संरक्षित होगा। *जिला कलेक्टर ने किया फोटो प्रदर्शनी का उद्घाटन**प्रदर्शनी में लगी सभी फोटों की सराहना की*सीकर 14 नवम्बर। भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के जीवन दर्शन पर आधारित फोटों प्रदर्शनी का सूचना केन्द्र में जिला कलेक्टर यज्ञ मित्र सिंहदेव ने फीता काटकर उद्घाटन किया। जिला कलेक्टर ने प्रदर्शनी में लगी सभी फोटो को देखा व उनकी भरपूर सराहना की। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि प्रदर्शनी में पंडित नेहरू के चित्र अविस्मणरणीय है। नेहरू जी की बच्चों के साथ स्नेह की अभिव्यक्ति, प्रदेश के पर्यटन स्थल, अन्य जिलों की विहंगम यात्रा के दृश्य मानस पटल पर सदैव अंकित रहते है। सूचना एवं जनसम्पर्क अधिकारी पूरण मल ने जिला कलेक्टर को प्रदर्शनी का अवलोकन करवाया तथा प्रदर्शनी में लगी फोटो के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि सूचना केन्द्र में आयोजित फोटों प्रदर्शनी 20 नवम्बर तक प्रातः 9.30 बजे से सायं 6 बजे तक आमजन के अवलोकन के लिए खुली रहेगी। इस अवसर पर मुख्य कार्यकारी अधिकारी जे.पी बुनकर, सहायक निदेशक लोक सेवाएं राकेश लाटा, अधीक्षण अभियन्ता जलदाय शिवदयाल मीणा,सीपीओ अरविन्द सामौर, सहायक निदेशक आर्थिक एवं सांख्यिकी नरेन्द्र भास्कर, सहायक निदेशक सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता अशोक बैरवा, सहायक निदेशक, बाल संरक्षण अधिकारिता प्रियंका पारीक सहित विभागीय अधिकारी, सूचना केन्द्र कार्मिक, मारू स्कूल की छात्राएं, मीडिया कर्मी, आमजन उपस्थित रहें। राधाकृष्ण मारू बालिका स्कूल की छात्राओं द्वारा शांति का संदेश देने के लिए गैस के भरे गुब्बारे आसमान में छोड़े गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat