पटना 19 साल की लड़की के साथ हुए रेप मामले में पटना पुलिस ने शुक्रवार की रात बड़ी कार्रवाई कर दी है

रत्नेश कुमार

इस मामले में पटना के एक मेडिकल स्टोर के के खिलाफ बुद्धा कॉलोनी थाना में एफआईआर दर्ज की गई है।साथ ही मेडिकल के मालिक को गिरफ्तार भी किया गया है।इस कार्रवाई को पटना के एसएसपी उपेंद्र कुमार शर्मा के निर्देश पर अंजाम दिया गया है।दरअसल,इस कार्रवाई के पीछे एक बड़ी वजह है।वारदात के बाद जब पीड़ित लड़की ने अपने बयान में पुलिस को बताया था कि उसका रेप करने से पहले विनायक सिंह ने नाइट्रोजन नाम की एक नशीली दवा भी खाई थी। पुलिस टीम इस बात का पता लगाने में जुटी हुई थी कि विनायक सिंह ने वो नशीली दवा कहाँ से खरीदी थी।विनायक सिंह और संदीप मुखिया इस रेप कांड के मुख्य आरोपी हैं।बुधवार को विनायक ने और गुरुवार को संदीप ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया था।

इन दोनों से पुलिस को काफी सारे सवाल पूछने थे।इसलिए गुरुवार को ही महिला थाना की पुलिस ने दोनों को रिमांड पर लेने की अर्जी कोर्ट में दाखिल की थी।शुक्रवार को 24 घंटे की रिमांड पर दोनों को जेल से लाया भी गया।इसके बाद फिर पूछताछ शुरू हुई।तब जाकर विनायक ने अपना मुंह खोला।इसके बताने के बाद ही एसएसपी के निर्देश पर ड्रग डिपार्टमेंट की एक टीम गोल्ड जिम के सामने स्थित मेडिकल स्टोर पहुंची।जांच में पता चला कि बगैर डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन के वहां नशीली दवाइयां बड़े आराम से मिल जाती हैं।इसके बाद ही खुद एसएसपी भी वहां जांच करने पहुंच गए। दुकानदार को दोषी पाए जाने पर उसके खिलाफ कार्रवाई की गई।इसके अलावा पुलिस टीम ने संदीप के उस कार को भी बरामद कर लिया है,जिसमें बैठाकर वारदात की रात पीड़िता को जिभी मॉल से पाटलिपुत्र इंडस्ट्रियल एरिया के फ्लैट पर ले जाया गया था।कार को संदीप की निशानदेही पर पालीगंज के जलपुरा गांव से बरामद किया गया है।गांव में रोड साइड ही कार पार्क की हुई थी।इसके अलावा संदीप के ही मोबाइल को जहानाबाद से बरामद की गया है। हालांकि गंदी करतूत का वीडियो पुलिस को नहीं मिली है।मोबाइल की जांच के लिए पुलिस की तरफ से एफएसएल भेजा जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat