पीएचईडी मंत्री और कुलपति ने की आईएसजीएस के 42वें कॉन्फ्रेंस का किया उदघाटन।

बहुद्देश्यीय प्रशाल में हुआ तीन दिवसीय कांफ्रेंस का उदघाटन / सारि तैयारी कर ली गई है पूरी

बिहार सरकार के लोक स्वास्थ्य अभियंत्रण मंत्री विनोद नारायण झा और तिलकामांझी भागलपुर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अवध किशोर राय बहुद्देश्यीय प्रशाल में भारतीय गांधी अध्ययन समिति के 42वें वार्षिक अधिवेशन का उदघाटन किया।

प्रख्यात गांधीवादी चिंतक तथा पूर्व सांसद व पूर्व कुलपति डॉ रामजी सिंह कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे। उदघाटन सत्र की अध्यक्षता भारतीय गांधी अध्ययन समिति की अध्यक्ष डॉ शीला राय ने की।उदघाटन सत्र की मुख्य वक्ता पटना विश्वविद्यालय के राजनीति विज्ञान की प्रोफेसर डॉ शेफाली राय थी। वहीं, अतिथियों का स्वागत व विषय प्रवेश अधिवेशन के आयोजन सचिव व पीजी गांधी विचार विभाग के हेड डॉ विजय कुमार ने किया।विशिष्ट अतिथि के रूप में टीएमबीयू के प्रतिकुलपति डॉ रामयतन प्रसाद, बीएनएमयू मधेपुरा के प्रोवीसी डॉ फारूक अली, भागलपुर के विधायक अजीत शर्मा आदि भी मंच पर मौजूद थे। इसके अलावे विश्वविद्यालय के सभी अधिकारियों, विभागाध्यक्षों, प्राचार्यों और शिक्षकों की भी उपस्थिति रही। उदघाटन के बाद अगला कार्यक्रम गांधी और लैंगिक समानता विषय पर प्रथम तकनीकी सत्र गांधी विचार विभाग के स्वराज कक्ष में आयोजित होगी। वहीं एमबीए विभाग में गांधी और महिला सशक्तीकरण विषय पर दूसरा तकनीकी सत्र संचालित होगा। दोनों तकनीकी सत्र समांतर रूप से अपराहन दो बजे से पांच बजे तक चलेगा।

संध्या पांच बजे से साढ़े छः बजे तक बहुद्देश्यीय प्रशाल में सोहन लाल तातेड़ स्मृति व्याख्यानमाला का आयोजन होगा।वहीं, व्याख्यानमाला के उपरांत बहुद्देश्यीय प्रशाल में ही आईएसजीएस के कार्यकारिणी की बैठक भी आयोजित होगी। अधिवेशन को लेकर बनाई गयी विभिन्न कमिटियों के कार्य प्रगति की भी समीक्षा की जायेगी।आवासीय व्यवस्था के लिए विश्वविद्यालय गेस्ट हाउस, लालबाग में खाली पड़े प्रोफेसर क्वार्टर आदि में व्यवस्था की जा गई है। वीआईपी गेस्ट के ठहरने के लिए शहर के प्रमुख होटलों और कुलपति आवास में भी व्यवस्था की गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat