पूर्वोत्तर रेलवे कर्मचारी संघ का रेल बचाओ प्रदर्शन एवं केन्द्र सरकार पर हल्ला बोल

छपरा 08 जनवरी। केन्द्र सरकार की कर्मचारी विरोधी नीतियों के विरोध में भारतीय रेलवे एवं उत्पादन ईकाइयों के रेल कर्मचारी आज अपना राष्ट्रव्यापी विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। पूर्वोत्तर रेलवे कर्मचारी संघ द्वारा पूर्वोत्तर रेलवे स्तर पर एनएफआईआर के आह्वान पर प्रत्येक जगह मोदी सरकार की नीतियों के विरोध में रेल बचाओ प्रदर्शन किया जा रहा है। आज छपरा में पूर्वोत्तर रेलवे कर्मचारी संघ के वाराणसी के मण्डल अध्यक्ष ए एच अंसारी के नेतृत्व में रेल कर्मचारियों ने रैली निकालकर और नारेबाज़ी कर अपना विरोध प्रदर्शन किए। जिसमें छपरा में सभी विभागों के सैकड़ों रेल कर्मचारियों ने भाग लिया।

बाद में कर्मचारियों को संबोधित करते हुए मंडल अध्यक्ष ए एच अंसारी ने बताया कि केंद्र सरकार की मज़दूर विरोधी दमनकारी नीतियों के ख़िलाफ़ रेल कर्मचारियों में आक्रोश है। अंसारी ने कहा कि केन्द्र सरकार कर्मचारियों के अधिकारों की अनदेखी कर काॅरपोरेट जगत् को बढ़ावा दे रही है। रेलवे जैसे बड़े संगठन में नीजिकरण की भागीदारी बढ़ा रही है। प्रतिदिन लाखों रेलकर्मचारी अपनी जान को दाव पर लगाकर रेलवे की आमदनी बढ़ाने के लिए सेवा में लगे हैं। सेवा के दौरान रेलकर्मियों की जान भी चली जाती है। ऐसे में केंद्र सरकार की मज़दूर विरोधी नीतियों से कर्मचारियों की छटनी और अधिकारों में कटौती से कर्मचारियों में आक्रोश है। केन्द्र सरकार की कर्मचारी विरोधी नीतियों को बंद करने , रेलवे का नीजिकरण एवं निगमीकरण बंद करने , 03 लाख कर्मचारियों की 2020 तक छँटनी करने की योजना बंद करने , एनपीएस ख़त्म कर पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू करने , रेलवे के सभी विभागों में रिक्त पदों को शीध्र भरने , पदों का सरेंडर रोकने आदि को लेकर आज एनएफआईआर का राष्ट्रव्यापी विरोध प्रर्दशन हो रहा है। छपरा में पूर्वोत्तर रेलवे कर्मचारी संघ भी केन्द्र सरकार की कर्मचारी विरोधी इन नीतियों का पुरजोर विरोध करता है। कर्मचारियों को सम्बोधित करनेवाले वालों में ए एच अंसारी , एस आर सहाय , संतोष कुमार , प्रशांत कुमार सिंह , संजय बैठा , प्रेम नाथ सिंह , प्रसून कुमार सिंह , एल के शर्मा , अशोक कुमार सिंह , एम ए अंसारी , अशोक कुमार 1 , अश्विनी कुमार , धर्मराज सिंह , अजय राय , दुखन राम , जी एन तिवारी , जे के यादव , राकेश कुमार , राल लाल मांझी , रंजीत कुमार श्रीवास्तव आदि कई कर्मचारी नेता शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat