पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह व पूर्व विधायक सुमित सिंह को फर्जी मुकदमे की जांच सीबीआई से हो

निशा सिंह पटना

पूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह व पूर्व विधायक सुमित सिंह को फर्जी मुकदमे की जांच सीबीआई से हो-राठौरनरेंद्र-सुमित प्रकरण पर महाधरना आयोजित कर अखिल भारतीय अपराध विरोधी मोर्चा ने एस पी लिपि सिंह की निलंबन की मांग कीपूर्व मंत्री नरेंद्र सिंह एवं उनके पूर्व विधायक पुत्र सुमित सिंह को मुंगेर एस पी लिपि सिंह द्वारा झूठे मुकदमे में फसाने के विरोध में आज गर्दनीबाग पटना में अखिल भारतीय अपराध विरोधी मोर्चा के तत्वाधान में विशाल महाधरना दिया गया।धरना का नेतृत्व मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष धनवंत सिंह राठौर ने किया ।

धरना पर विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधि उपस्थित होकर एक स्वर में नरेंद्र सिंह व सुमित सिंह को झूठे मुकदमे में फसाने की कार्रवाई की तीब्र भर्त्सना करते हुए तुरंत फर्जी मुकदमा वापस लेने की मांग की गई। महाधरना को सम्बोधित करते हुए मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष धनवंत सिंह राठौर ने कहा कि किसी राजनेता के इशारे पर राजनीतिक दल के कार्यकर्ता की तरह एसपी लिपि सिंह ने कार्य करते हुए फर्जी मुकदमे में फंसा कर जो घृणित कार्य किया वह सबसे बड़ा अपराध है।बिहार की जनता ऐसे कार्य करने बालों को कभी माफ नही करेगा।74 आंदोलन के सूत्रधार रहे नरेंद्र सिंह के ऊपर राजनीतिक साजिश के तहत फर्जी मुकदमा करना लोकतंत्र का अपमान है।आज सत्ता में बैठे लोग अपने राजनीतिक दुश्मनों के खिलाफ कानून का दुरुपयोग जिस तरह कर रहे है ये भविष्य के लिये खतरे का संकेत है।नरेंद्र सुमित प्रकरण में मुंगेर एस पी ने राजनीतिक दल के कार्यकर्ताओं की तरह जो कार्य किया वो कानून के मुह पर तमाचा है।अगर जदयू नेता की पुत्री को एस पी से निलंबित कर विहार से बाहर नही भेजा गया तो मोर्चा आंदोलन को तेज करेगा।न्याय के साथ विकास की बात करने बाले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की चुप्पी साबित करती है उनके खिलाफ आवाज उठाने बाले राजनेताओं व आम लोगो को फर्जी मुकदमे में फसाने की कारवाई उनके संज्ञान में हो रहा है। कानून के नाम पर सत्ता के इशारे पर सत्ता के विरोध करने बाले राजनेताओं को झूठे मुकदमे में फसाने की कारवाई करना बंद करे अन्यथा उन्हें जनता के कोपभाजन का शिकार बनने से कोई रोक नही सकता। पूर्व मंत्री नवल किशोर शाही ने अपने सम्बोधन में कहा कि 74 आंदोलन के सिपाही नरेंद्र बाबू को झूठे मुकदमे में फ़साने कि कारवाई कि जितनी भी निंदा कि जय कम होगी !जेपी के शार्गिद रहे नीतीशजी सत्ता के मदहोश में इतने डूब गए है कि सत्ता कि गलती को उजागर करने वाले को पुलिस से फर्जी मुकदमे कराकर डराने कि कारवाई पर उत्तर चुके है ! महाधरना पर बैठनेवाले और सम्बोधित करने वालो में विज्ञानं स्वरूप सिंह,डॉ कैप्टन विजय शंकर सिंह ,प्रो बिहारी भैया , ,वर्मा कुमार ,रविंद्र सिंह ,दिवाकर सिंह ,डॉ विजय राज सिंह ,दिनेश्वर सिंह ददन , नितेश कछवाहा , धनंजय कुमार सिंह ,संजय सिंह सिसोदिया ,साजन सिंह ,राम लखन स्वर्णकार ,बी के सिंह ,विक्रम कुमार ,गोपाल सिंह ,प्रेम शंकर चौहान ,डॉ डीके सिंह ,अशोक कुमार जैन ,सुनील अग्रवाल ,सत्य विजय सिंह ,अजय कुमार सिंह ,संजय सिंह ,आनंद सिंह ,अमरेंद्र सिंह ,मिथिलेश सिंह ,मुकेश सिंह ,राहुल कुमार,अभिषेक कुमार सिंह ,ललन सिंह प्रमुख थे !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat