प्रबंधन और विस्थापित ग्रामीणों के बीच वार्ता विफल विस्थापित ग्रामीणों ने किया आर एल कंपनी द्वारा कोयला उठाव का विरोध

लातेहार जिला केबालूमाथ प्रखंड मुख्यालय स्थित सीसीएल के तेतरियाखार कोल परियोजना कार्यालय परिसर में सीसीएल प्रबंधन और कोलियरी से जुड़े विस्थापित ग्रामीणों की एक अहम बैठक हुई l बैठक में आर एल कंपनी द्वारा 80 लाख टन कोयले का उत्खनन एवं उठाव को लेकर चर्चा की गईl बैठक में सीसीएल प्रबंधन द्वारा कहा गया कि कोयला उत्खनन का कार्य 5 वर्ष के लिए आर एल कंपनी द्वारा ली गई है जिसके तहत 38 लाख क्यूबिक टन ओबी भी का उत्खनन सरफेस माइनिंग के द्वारा किया जाएगाl जिसका परिवहन कोल साइडिंग तक हाईवा वाहनों द्वारा की जाएगी l जिसका बैठक में उपस्थित विस्थापित ग्रामीणों ने पुरजोर विरोध करते हुए कहा हाईवा द्वारा कोयले का परिवहन किए जाने से स्थानीय ग्रामीणों को काफी नुकसान होगा l यहां की रोजी-रोटी समस्या उत्पन्न हो जाएगी l ग्रामीणों ने कहा कि कोलियरी से जुड़े कई लोगों का अपना स्वयं का ट्रक वाहन है जो उनके लिए रोजगार मुहैया कराती है ऐसी स्थिति में हाईवा द्वारा कोयले का परिवहन कराना स्थानीय लोगों के साथ ज्यादती होगी तथा इससे बालूमाथ पूरा प्रखंड प्रभावित होगा l मौके पर मौजूद विस्थापित ग्रामीणों ने एक स्वर से कहा किसी भी स्थिति पर हाईवा वाहन द्वारा कोयले का परिवहन नहीं होने दिया जाएगाl इसके लिए हम लोग सीसीएल के वरीय अधिकारियों से भी मिलकर यहां की समस्याओं को रखेंगे और नहीं मानने पर प्रदर्शन और घेराव भी कार्यालय का करेंगेlमौके पर पीओ कपिलदेव प्रसाद,एस ओ प्रधान जी, सेफ्टी ऑफ स्टाफ़ आदम जी, आर एल कंपनी प्रतिनिधि रितेश कुमार, पाठक जी ग्रामीण बिहारी यादव, सुरेश उरांव, संतोष यादव, प्रदीप यादव,संजीत साहू, संजय यादव, कोलेश्वर गंझु (पंचायत समिति) दिलमणि यादव ,अमृत यादव सहित दर्जनों लोग शामिल थे

रिपोर्ट अजित कुमार के साथ बद्री गुप्ता लातेहार ब्यूरो की रिपोर्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat