बारिष होने से किसानों में मायूसी छाया

दुल्हिन बाजार से रत्नेश कुमार

इनदिनों मौसम के बदले मिजाज से किसानों के चेहरों पर मायूसी छाई हुई हैं,अधिकतर किसानों को सोचने पर मजबूर कर दिया ये बारिश।बताते चलें कि दो दिनों से लगातार हो रहे रिमझिम बारिश से जहाँ एक ओर धान की फसल अभी खेत में ही हैं। वही कुछ किसान का फसल खलिहान में आ भी गया हैं। तो खेत मे रवि फसल को लगाने में ये बारिश मुश्किल साबित हो रहा हैं। वही इस संदर्भ में प्रखंड के काब गांव के किसान राजु सिंह, प्रकाश सिंह, निकेश सिंह,रजनीश सिंह,बैजलपुर के राजु सिंह, संजीत कुमार,अरूण सिंह,बैजू यादव आदि ने बताया कि पहले तो पानी की कमी के कारण धान की फसल खराब हुई। जब धान की फसल को पानी की जरूरत नहीं थी।उस समय बारिश होने लगी।

किसी तरह गिली खेतों से धान की कटनी कर खेत को सूखने का इंतजार कर रहा था।ताकि समय पर रवि फसल लगाया जा सकेगा।लेकिन बदलते मौसम ने हम किसान को दोगुनी घटा लेकर आई हैं। अब खेत को सूखने में 15 से 20 दिन का समय लग जायेगा। और ऐसे स्थिति में रवि फसल समय से पीछे रह जायेगा।अधिकतर छोटे किसान मनी और पटा पर खेत लेकर धान का फसल लगाये हुये हैं।बहुत से किसान कर्ज में डुबे हुये हैं ये किसानों के उपर दोहरा मार पड़ गया है।किसानों का मुल पुँजी अनाज हैं और भगवान वो भी किसान के घर नहीं आने दिये।किसान अपने परिवार का खर्चा,बच्चों के पढाई-लिखाई,बेमारी,शादी-विवाह अपने अनाज को बेचकर करते थे, अब वह कौसे कर पायेंगे यह सोच जान मार रहा है।कुछ लोग रोते नजर आये,गरीब किसान को अपने जानवरों को रख-रखाओ में काफी दिक्कत हो रही हैं।ठंढ और उपर से बारिश काफी दिक्कत से गुजर रहा है किसानों का दिन।सभी के जुबान पर एक ही शब्द है जल्द से जल्द मौसम ठीक ठाक हो जाये और धुप निकल आये।अपने घर मे धान के अनाज को लेकर आये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat