बीते 4 दिनों से पानी पर सिसक रही है जिंदगी

ब्युरो रिपोर्ट- आशीष कुमार, पटना

बीते 4 दिनों से राजेंद्र नगर, बाजार समिति, लंगर टोली इलाकों में जिंदगीयाँ पानी में सिसक रही है। 3 दिनों की खामोशी के बाद प्रशासन रविवार की शाम से बचाव कार्य में आगे आई है। रविवार को रात भर और सोमवार को सुबह से ही एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें पानी में फंसे लोगों को रेस्क्यू करने में लगी है।

राजेंद्र नगर इलाके में फंसे निवासियों को बचाने के लिए नाव का इस्तेमाल किया जा रहा है। लेकिन जिस संख्या में लोग फंसे पड़े हैं उसमें एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की वोटे भी कम परती जा रही है। सरकार की तरफ से बाढ़ में फंसे लोगों के लिए बड़े-बड़े दावे तो किए जा रहे हैं लेकिन स्थिति ठीक उलट है। अभी राजेंद्र नगर इलाके में अभी भी 5 से 6 फीट पानी लगा हुआ है। प्रशासन की तरफ से बिस्कुट के पैकेट, नाश्ते के पैकेट और पानी की बोतल तो दी जा रही है लेकिन जनसंख्या के हिसाब से वह नाकाफी है।

जिससे बाढ़ में फंसे लोगों में गुस्से का आलम है। बीते कुछ दिनों से कहर बरपाने के बाद फिलहाल पटना में बारिश सोमवार से थमी हुई है। हालांकि जलभराव के चलते त्राहिमाम मचा हुआ है। अभी भी कई कई दिनों से लोग भूखे प्यासे घरों में कैद हैं। जो वायु सेना से मदद की आस देख रहे हैं। पूरे इलाके में बिजली की सप्लाई भी नहीं हो पा रही है। स्थानीय लोगों का कहना है कि पटना में पूरी सरकार है। परंतु अभी तक कोई भी नेता पानी में घिरे लोगों के बीच नहीं पहुंचा है। पिछले 3 दिनों से जलजमाव के कारण पानी बदबू देने लगा है। पटना की सड़कों पर नावे चल रही है। जबकि घरों और अस्पतालों में पानी भरा हुआ है। बड़े-बड़े लोगों को तो रेस्क्यू करके तो निकाल लिया गया और जिनकी कोई ऊपर तक पहुंच नहीं है वे अभी भी जलजमाव में फंसे हुए हैं।लोग छतों पर से मदद की भीख माँगते नजर आ रहे हैं।बहरहाल पानी तो जैसे तैसे निकल ही जाएंगे लेकिन पानी निकलने के बाद होने वाली महामारी को लेकर सरकार को चौकस रहना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat