मानस इंटरनेशनल स्कूल में पंडित जवाहरलाल नेहरू के जन्म दिवस के मौके पर बाल दिवस का किया गया आयोजन।

(बरूण कुमार)

जहानाबाद अंबेदकर चौक निकट स्थित मानस इंटरनेशनल स्कूल के परिसर में पंडित जवाहरलाल नेहरू के जन्म दिवस के अवसर पर बाल दिवस का आयोजन किया गया। जिसका विधिवत उद्घाटन संस्था के चेयरमैन डॉ अरुण कुमार सिन्हा ने किया । डॉ अरुण कुमार ने अपने उद्घाटन भाषण में इन्होने कहा कि पंडित जवाहरलाल नेहरू भारत के प्रथम प्रधानमंत्री थे, और स्वतंत्रता के पूर्व और पश्चात की भारतीय राजनीति में केंद्रीय व्यक्ति थे।

आधुनिक भारतीय ,राष्ट्र, राज्य, समाजवादी ,धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक गणतंत्र के वास्तुकार भी माने जाते हैं। वे देश के एक बदलाव निर्माता थे ,ना केवल स्वतंत्रता की लड़ाई में बल्कि सामाजिक परिवर्तन में भी उनका बड़ा योगदान था। उनके जन्मदिन को ही बाल दिवस के रूप में मनाते हैं वे बच्चों के विकास और कल्याण के लिए काम करने वाले नेहरू जी को आज सारा देश याद कर रहा है। नेहरू जी का मानना था कि भगवान बच्चों के सबसे करीब होते हैं क्योंकि उनके दिल और दिमाग शुद्ध और निर्दोष होते हैं।इस अवसर पर मानस इंटरनेशनल के शिक्षा निदेशक निशांत रंजन ने कहा कि पंडित जवाहरलाल नेहरू ने भारतीय बच्चों को देश की असली ताकत समझा। और राष्ट्र के वास्तविक विकास के लिए दोनों को समान अवसर देने में विश्वास करते थे उन्होंने कहा था कि बच्चों को प्यार और ध्यान देना चाहिए क्योंकि वह एक राष्ट्र के भविष्य के वाहक होते हैं ।बच्चों के प्रति उनका सच्चा प्यार चाचा नेहरू के रूप में एक स्थाई नाम पाने का कारण बना। इस अवसर पर स्कूल की प्राचार्या अर्चना मैडम ने कहा कि इस दिन का उत्सव हमें बच्चों के प्रति उनकी प्रतिबद्धता को नवीनीकृत करने की याद दिलाता है ।जिसमें उनके उचित स्वास्थ्य देखभाल संस्कार व शिक्षण आदि शामिल है।इस अवसर पर स्कूल के परिसर में स्कूल के नेहरू हाउस राजेंद्र हाउस कलाम हाउस एवं पटेल हाउस के बीच रंगोली प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमें राजेंद्र हाउस 90 अंक लाकर प्रथम व कलाम हाउस पचासी अंक लाकर द्वितीय स्थान प्राप्त किया ।इस अवसर पर स्कूल के शिक्षा निदेशक निशांत रंजन के द्वारा सभी प्रतिभागियों को पेन व पेंसिल देकर पुरस्कृत किया गया ।इस अवसर पर अश्वनी शर्मा ,विवेकानंद ,संतोष राकेश, अरविंद ,आलोक ,अर्चना, बानो, रवि कुमार ने भी अपने-अपने विचार व्यक्त किए ।कार्यक्रम का समापन राष्ट्रगान से किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat