राजनीतिक सन्यासी थे रघुवंश बाबू- इंदु कश्यप।

 

 

बरुण कुमार:—

 

 

जहानाबाद बिहार भाजपा नेत्री इंदु कश्यप ने कहा कि बिहार के बड़े नेताओं में शामिल तथा गरीबों, शोषित वंचित तथा किसानों के मसीहा एवं आवाज स्वर्गीय रघुवंश प्रसाद सिंह ने अपना राजनीतिक सफर जेपी आंदोलन में शुरू किया। 1977 में वह पहली बार विधायक बने और बाद में बिहार में कर्पूरी ठाकुर सरकार में मंत्री भी बने। वह बिहार के वैशाली लोकसभा क्षेत्र से पांच बार सांसद रह चुके हैं। इस बार वे इसी क्षेत्र से जेडीयू नेता से चुनाव हार गये थे। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद से रघुवंश प्रसाद का संबंध जेपी आंदोलन से रहा है और दोनों एक दूसरे के बेहद करीब भी रहे। जब 1990 में लालू प्रसाद बिहार के मुख्यमंत्री बने तो रघुवंश प्रसाद सिंह को विधान पार्षद बनाया, जबकि वह विधानसभा चुनाव हार चुके थे। वहीं जब एचडी देवेगौड़ा प्रधानमंत्री बने तो लालू प्रसाद ने उन्हें बिहार कोटे से मंत्री बनवाया। राजनीति के विभिन्न सम्मानित पदों पर रहते हुये भी सादगी एवं धनी विचार के व्यक्ति थे। रघुवंश बाबू के देहांत से देश तथा बिहार के राजनीतिक जगत में गहरा शोक लगा है।

इन महान विभूति के चरणों में श्रद्धा सुमन अर्पित करती हु। साथ ही इस विकट परिस्थिति में इनके परिजनों के साथ खड़ी रहूँगी। इस मौके पर शोक संवेदना व्यक्त करने वाले मण्डल अध्यक्ष सुधीर शर्मा, सतीश शर्मा, राकेश कुमार, प्रशांत सौरव, बिट्टू किंग, लड्डू कुमार, धीरज कुमार, जितेंद कुमार शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat