वन क्षेत्राधिकारी सादुल्लाह नगर बाल श्रम कानून की उड़ा रहे हैं धज्जियां गोंडा।

स्टेट ब्यूरो रिपोर्ट:- कृष्ण मोहन

जिन बच्चों के हाथ में कलम व कॉपी होनी चाहिए वही बच्चे को कड़ाके की ठंड में वन क्षेत्राधिकारी सादुल्लाहनगर सुशील चतुर्वेदी ने पैसों का लालच देकर नन्हे बच्चो के हाथ मे थमाया फावड़ा,टोकरी बालश्रम कानून को ताक पर रखकर रेंजरी पर बाल मजदूरी करवाया जा रहा है। सरकार द्वारा बाल श्रम पे अंकुश लगाने के लिए भले ही तरह-तरह के कानून बनाये गए है लेकिन वन विभाग के जिम्मेदार अधिकारी बाल मजदूरी करवाकर कानून की धज्जियाँ उड़ाते नजर आ रहे हैं।

जब सरकार के ही सरकारी कार्यालय में बाल मजदूरी करायी जाएगी तो निजी क्षेत्रों में बाल मजदूरी पर अंकुश कैसे लग पायेगा। इन बच्चों से श्रम कराते वन क्षेत्राधिकारी कार्यालय पर देखा जा सकता है।

इसकी मुख्य वजह परिवार की आर्थिक तंगी है। गरीबी का दंश झेल रहे इन परिवार के बच्चों के लिए सर्व शिक्षा अभियान भी कारगर नहीं साबित हो रहा है। वन क्षेत्राधिकारी द्वारा रेंजरी पर हाड़तोड़ मेहनत करायी जा रही है। बालश्रम रोकने के लिए शासन की योजनाएं भी फाइलों में कैद होकर रह गई हैं।

वन अधिकारी सादुल्लाह नगर ने दूरभाष पर बताया कि हमारे यहां कल पार्टी थी उसी में बच्चे खाना खाने आए थे मजाक- मजाक में बच्चे फावड़ा व टोकरी उठाकर काम करने लगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat