साईकिल से छपरा टू कोलकाता …

रत्नेश कुमार

हर दिन पटना बाईपास पर कोई ना कोई तस्वीर आपको मिल जाएगी….हर दिन बाईपास पर गुजरते नए चेहरे और हर चेहरे की अलग कहानी ….हर तस्वीर आपको झकझोर देने वाला….ज्योतिर हलदर और संजय कर्मकार अपने 6 साथियों के साथ छपरा से कोलकाता के लिए निकले….लॉकडाउन में मजदूरी खत्म होने पर कितनी परेशानी और क्या हालात रही होंगी जाना जा सकता है।आज की इस यात्रा की तस्वीर में विशेष बात इतनी है कि मजदूरो ने कहा कि मालिक ने डेढ़ महीना बिना काम किये ही खिलाया,पिलाया….मकान के किराया तक नही लिया…

घर जाने के लिए पास बनवाने के लिए थाना से लेकर SDO तक चक्कर लगाया पर मजदूरो को भला कौन सुने…मालिक ने सभी 6 मजदूरो को नई साईकिल खरीद कर दी, ताकि घर जा सके और साथ मे कुछ रुपये भी ताकि रास्ते मे जरूरत पड़े तो काम आए….मजदूरो ने घर वापस जाते हुए एक बात जो कही वो पूरी कहानी खत्म करती है….हमलोग वापस लौटने को मजबूर है।पर जब सब ठीक हो जाएगा तो वापस यहीं काम करने आएंगे क्योंकि ऐसा मालिक नही मिलेगा…..दूसरे प्रदेशों से लौट रहे मजदूरो और बिहार से दूसरे प्रदेश जा रहे मजदूरो के बीच का यह अंतर बिहार की पहचान है।बुरे वक्त में लोगो के साथ खड़े रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

WhatsApp chat