NIRMAL KUMAR PANDEY

 

* भगतई में सिद्धी प्राप्त करने के लिए गई हत्या

 

* पुलिस के समक्ष आरोपित ने कबूल किया अपना जुर्म

 

 

 

केवटी रैयाम थाना क्षेत्र के फुलकाही पोखरटोल निवासी रवि शर्मा के इकलौते नाबालिग पुत्र अर्जुन शर्मा हत्याकांड मामले का गुत्थी सुलझाते हुए पुलिस ने उदभेदन कर लिया है। हत्याकांड की साजिश रचने वाला फुलकाही गांव के बढ़ई टोल निवासी नारायण शर्मा के पुत्र रामदेव शर्मा को थानाध्यक्ष संजय कुमार सिंह ने पूछताछ व सामुदायिक चिकित्सा केंद्र रनवे – केवटी में चिकित्सकीय जांच कराने के बाद शुक्रवार की शाम पुलिस अभिरक्षा में उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया ।

उन्होंने अपना जुर्म कबूल करते हुए पूरी बात स्पष्ट रूप से पुलिस को बताई है। जबकि दूसरा आरोपित रामदेव शर्मा की पत्नी आभा देवी की संदिग्ध स्थिति में मौत हो गई और उसका शव 22 अगस्त की सुबह घर के बरेड़ी से लटका हुआ मिला था । बताया जाता है कि आभा ने आत्म हत्या कर ली थी। गौरतलब है कि 6 अगस्त की शाम करीब साढ़े चार बजे अर्जुन शौच के लिए अपने घर से निकला जो वापस घर नहीं आया । जिसकी खोजबीन स्वजनों एवं ग्रामीणों द्वारा अपने स्तर किया गया । परंतु काफी खोजबीन करने पर अर्जुन का पता नही चला । अगले दिन 7 अगस्त की सुबह उसका शव उसके घर से करीब दो सौ मीटर पूरब स्व. जयनारायण झा के जलावन घर में मिला था । अर्जुन की हत्या गला रेत कर दी गई थी । इतना ही नहीं उसके दोनों आंखों को भी फोड़ दिया गया था । पुलिस पदाधिकारी ने मामले का शीध्र उदभेदन कर अर्जुन के कातिल को गिरफ्तार करने का आश्वासन स्वजनों को दिया था। स्वजनों व ग्रामीणों की मांग पर घटना के बाद डाॅग स्क्वायड की टीम को भी दरभंगा से मंगवाया , परंतु उससे भी पुलिस को कोई सुराग हाथ नहीं मिल सका था । पुलिस ने इस मामले में कुछ लोगों के अलावा 20 अगस्त गुरूवार को रामदेव शर्मा एवं उसके पत्नी को हिरासत में लेकर पूछताछ की थी । इतना ही नहीं मामले में लापरवाही बरतने को लेकर एसएसपी ने थानाध्यक्ष को निलंबित भी कर दिया । बावजूद इसके एक माह बाद भी इस मामले के रहस्य से ही पर्दा उठा और ना ही पुलिस हत्यारों का पता लगा सकी थी। नये थानाध्यक्ष संजय कुमार सिंह के योगदान के बाद स्वजनों सहित गांव के लोगों में मामले के उदभेदन करने की उम्मीद बढ़ी । थानाध्यक्ष ने अनुसंधान जारी रखते हुए इस मामले में पूछताछ के लिए पुनः रामदेव शर्मा को हिरासत में लेकर उससे पूछताछ शुरू किया । पूछताछ में उसने पुलिस के समक्ष अपना जुर्म कबूल करते हुए पूरी बात स्पष्ट रूप से बताते हुए कहा कि भगतई में सिद्धी प्राप्त करने के लिए उसने अपनी पत्नी के साथ मिलकर उक्त घटना को अंजाम दिया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *