संवाददाता- हिमांशु राजपूत
भारत जैसे देश में जहां गायों को माता कहा जाता है।
और बैलों से खेती का कार्य किया जाता है।
पर समय की मार ने इंसानों को बेरहम बना दिया।
अब कोई इंसान इन बेजुबानों पर अत्याचार करने से नहीं डरता।
यूपी के जिला सीतापुर के कोतवाली मोहाली के अंतर्गत ग्राम व पोस्ट चतुरेया मैं रत्नाकर पुत्र राजेंद्र कुमार के खेत के पास चकरोड बना हुआ था पुत्र हरिवंश ने वहां चकरोड पर कटीले तार लगा दिए हैं आज दिनांक 3 अप्रैल को दोपहर लगभग 1:30 रत्नाकर पुत्र राजेंद्र कुमार अपने खेत को अपनी बैलगाड़ी लेकर जा रहा था चकरोड पर लगे कटीले तारों में बैलगाड़ी के बैल का पैर फंस गया जिससे बैल का पैर कट गया साथ ही बैल का गलत था सीने के पास का काफी गहरे घाव हो गए हैं बहन के कटे अंगों से अभी भी दवा कराने के बावजूद खून लगातार बह रहा है

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *