रत्नेश कुमार (बिक्रम)

बिक्रम~समाज तेजी से बदल रहा है हर जगह परिवर्तन हो रही है शिक्षक प्रेम व सम्मान के पात्र होते हैं।शिक्षक की विदाई कभी नही हो सकती।उक्त बातें शनिवार को बिक्रम के बाघाकोल गांव स्थित उत्क्रमित मध्य विद्यालय के प्रागण में विदाई एवं सम्मान समारोह के मौके पर मुख्य अथिति के रूप में बिहार सरकार के सूचना एवं जनसंपर्क मंत्री नीरज कुमार ने कही।

साथ ही उन्होंने कहा कि समाजिक समारोह हो या शादी-विवाह,जन्मदिन के शुभ अवसर को यादगार पल बनाने के लिए पौधा रोपण कीजिये जिस से प्राकृतिक को भी संरक्षित की जा सके।बच्चो के जन्मदिन,शादी विवाह के अवसर पर एक पौधा जरूर लगाये।बिहार की भूमि ज्ञान की भूमि है यहां 88.1 प्रतिशत सरकारी विद्यायल में लोग शिक्षा दीक्षा लेते है.निजी विद्यालय मात्र 5 प्रतिशत है वही केरल में निजी विद्यालय 62.3 प्रतिशत हैं।इस राज्य में सड़क, बिजली,पानी,शिक्षा सब उपलब्ध हैं।विदाई सह सम्मान समारोह में शिक्षक लालधर प्रसाद व आलोक कुमार को मुख्य अतिथि के द्वारा शॉल व बुके देकर सम्मानित की गई।कार्यक्रम के दौरान ही शिक्षकों का एक शिष्टमंडल ने अपनी समस्याओं का मेमोरेंडम मंत्री नीरज कुमार को दी।कार्यक्रम का संचालन शिक्षक समन्वयक नीरज कुमार “कमल” एवम अध्यक्षता मिथलेश कुमार ने की।कार्यक्रम का शुभारम्भ स्कूली बच्चो द्वारा स्वागत गीत के साथ शुरु की गई।अन्य वक्ताओं में पूर्व विधायक अनिल कुमार, इंस्पेक्टर नागेश्वर सिंह,भाजपा जिलाध्यक्ष आशुतोष कुमार, नीरज कुमार,संधीर यादव,मनीष कुमार,नीरज कुमार,तिवारी,मनोज कुशवाहा,कौशल कुमार, अविनाश उपाध्याय,रंजीत कुमार, राज किशोर सहित अन्य वक्ताओं ने शिक्षक के सम्मान में चर्चा की.मौके पर कारू सिंह,सन्त कुमार, अरुण कुमार,शिक्षक अजय कुमार,अश्विनी कुमार,विधालय के शिक्षक व शिक्षिकायें छात्र एवम छात्रायें शामिल थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *