रत्नेश कुमार

जहां पूरे देश में लॉक डाउन हो चुकी है।वहीं बिहार में आज चौथे दिन है।वही दूसरी ओर केंद्र सरकार लाख दावे कर रही है की किसी भी प्रकार के आवश्यक वस्तुओं की किल्लत और दिक्कत नहीं होगी हर हालत में यह आवश्यक सुविधाएं सभी आम नागरिकों को मुहैया कराई जाएगी।लेकिन पटना जिले के पालीगंज अनुमंडल मुख्यालय बाजार की एटीएम केंद्रों की समीक्षा करने पर पता चला कि यहां 6 एटीएम के केंद्र है।जिस में से आधे यानी तीन खुले मिले और तीन बंद पड़े मिले सभी खुले तीनों एटीएम में 2 स्टेट बैंक के थे और एक इंडिया एटीएम नंबर वन का एटीएम केंद्र था।यहां तीनों केंद्र खुले थे। इन तीनों मे पैसे मौजूद मिले लेकिन इन तीनों केंद्रों पर इक्के – दुक्के ग्राहक ही नजर आए इन केंद्रों पर भी वीरानी छाई रही। साफतौर पर लॉकडाउन का असर दिखाई दे रहा है।क्योंकि ग्राहक और आम लोग घरों से लॉकडाउन की वजह से नहीं निकल रहे हैं।पूरी तरह से सरकार के दिशा निर्देशों का पालन कर रहे हैं और अपने अपने घरों में रह रहे है यह शुभ संकेत है। वहीं दूसरी ओर 3 बंद पड़े एटीएम केंद्रों में एक पीएनबी बैंक का एक वक्रांगी केंद्र और एक यूनियन बैंक का केंद्र थे।जो यह तीनों एटीएम केंद्र बन पड़े थे।यहां सुरक्षाकर्मी भी मौजूद नही थे सभी एटीएम में ताले बंद पड़े मिले।इससे साफ जाहिर होता है कि केंद्र सरकार के दावे आधी हकीकत और आधे फसाने वाले कहानी बया करती दिखाई दे रहे है।इससे साफ जाहिर होता है की केंद्र सरकार के दावे खोखले साबित हो रहे हैं।वही किराने दुनाकारो ने हर वस्तुओ पर सर चार्ज लॉकडाउन का लगाने शुरू कर दिए है।धीरे धीरे दामों को बढ़ाने शुरू कर दिए है। कालाबाजारी होने लगी है। वही पहले दिन से आटे, आलू और अब प्याज 35 से 40 रूपए किलो हो गए।अन्य किराने की समानो मे रिफाइन भी अब बाजार से गायब होने लगे है।वही अनुमण्डल मार्केटिंग पदाधिकारी के निर्देश को कोई पालन करते नही दिखाई दे रहे सभी आवश्यक वस्तुओ की दामो की सूची पट लगाने थे लेकिन कोई इसका पालन करता दिखाई नही दे रहा है। जिला प्रशासन को इस पर कड़ी करवाई करने की आवश्यकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *